Thursday, 29 March 2018

RPSC IInd grade Teacher Vacancy & Syllabus in Hindi for Sanskrit Department

संस्‍कृत शिक्षा विभाग हेतु वरिष्‍ठ अध्‍यापक एवं प्राध्‍यापक के पदों के लिए विज्ञप्ति जारी
राजस्‍थान लोक सेवा आयोग, अजमेर ने संस्‍कृत शिक्षा विभाग हेतु वरिष्‍ठ अध्‍यापक एवं प्राध्‍यापक के पदों के लिए विज्ञप्ति जारी कर दी है।
उपर्युक्‍त पदों के लिए आवेदन तिथि 23 अप्रेल 2018 से 15 मई 2018 तक आवेदन कर सकते है।
आयु - 1 जुलाई 2018 तक न्‍यूनतम 18 वर्ष एवं अधिकतम 40 वर्ष से होनी चाहिए। 
वरिष्‍ठ अध्‍यापक के पदों की संख्‍या →
प्राध्‍यापक के पदों की संख्‍या → 


आधिकारिक वेबसाइट https://rpsc.rajasthan.gov.in

Scheme and Syllabus of competitive examination for the post of Senior Teacher
Paper - I
For competitive examination for the post of Senior Teacher:
1. The question paper will carry maximum 200 marks.
2. Duration of question paper will be 2.00 hours.
3. The question paper will carry 100 questions of multiple choices.
4. Paper shall include following subjects carrying the number of marks as shown against them.
(i) Geographical, Historical, Cultural and general Knowledge of Rajasthan. 80 marks
(ii) Current Affairs of Rajasthan 20 marks
(iii) General knowledge of world and India. 60 marks
(iv) Educational Psychology. 40 marks
Total 200 marks
5. The detailed syllabus and scope of paper for the examination will be as prescribed by the Commission from time to time and will be intimated
to the candidates within the stipulated time in the manner as the Commission deems fit.
Paper - II
A. For the post of Senior Teacher (Sanskrit):
1. The question paper will carry maximum 300 marks.
2. Duration of question paper will be 2hours 30 minutes.
3. The question paper will carry 150 questions of multiple choices.
4. Paper shall include following subjects carrying the number of marks as shown against them.
(i) Knowledge of Praveshika and Varistha Upadhyaya standard about relevant subject matter. 180 marks
(ii) Knowledge of Shastri standard about relevant subject matter. 80 marks
(iii) Teaching Methods of relevant subject. 40 marks
Total 300 marks
5. Medium of examination shall be Sanskrit language.
6. The detailed syllabus and scope of paper for the examination will be as prescribed by the Commission from time to time and will be intimated
to the candidates within the stipulated time in the manner as the Commission deems fit.
B. For the post of Senior Teacher (Other than Sanskrit):
1. The question paper will carry maximum 300 marks.
2. Duration of question paper will be 2 hours 30 minutes.
3. The question paper will carry 150 questions of multiple choices.
4. Paper shall include following subjects carrying the number of marks as shown against them.
(i) Knowledge of secondary and senior secondary standard about relevant subject matter. 180 marks
(ii) Knowledge of graduate standard about relevant subject matter. 80 marks
(iii) Teaching Methods of relevant subject. 40 marks
Total 300 marks
5. The detailed syllabus and scope of paper for the examination will be as prescribed by the Commission from time to time and will be intimated
to the candidates within the stipulated time in the manner as the Commission deems fit.


RPSC Head Master 2018 – Vacancy Detail, Syllabus and Exam Pattern in hindi


RPSC Head Master 2018 – Vacancy Detail, Syllabus and Exam Pattern
राजस्‍थान लोक सेवा आयोग द्वारा माध्यमिक शिक्षा विभाग हेतु प्रधानाध्यापक-माध्यमिक विद्यालय के पदों पर भर्ती हेतु राजस्थान शिक्षा सेवा नियम, 1970 के अन्तर्गत ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। पद स्थाई है तथा विभाग से प्राप्त कुल रिक्त/आरक्षित पदों (पदों में कमी/वृद्धि की जा सकती है) की संख्या निम्नानुसार है:-


प्रधानाध्‍यापक भर्ती हेतु शेक्षिण योग्‍यता  -


प्रधानाध्‍यापक भर्ती हेतु आयु - दिनांक 01.07.2018 को न्‍यूनतम 24 वर्ष एवं अधिकतम 40 वर्ष से कम।
 आयु सीमा में छूट -


प्रधानाध्‍यापक हेतु वेतनमान - Pay Matrix Level (L-14)

आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक पदों के लिए इन्‍तजार करने वाले उम्मीदवारों के लिए शुभ समाचार।  आरपीएससी द्वारा आयोजित प्रधानाध्‍यापक भर्ती में नौकरी पाने के इच्‍छुक अभ्‍यर्थियों के लिए शुभ अवसर है। अभ्यर्थी जो परीक्षा में बैठने जा रहे हैं उनकी तैयारी में संदेह है, तो उम्मीदवार अब परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम जानने के बाद तैयारी शुरू कर सकते हैं। इसलिए यहां हम उम्मीदवारों के लिए स्पष्ट परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम दे रहें है, जो परीक्षा के लिए बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं आवेदक के लिए महत्त्वपूर्ण है।
आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक पाठ्यक्रम 2017:
उम्मीदवार जो आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक परीक्षा की तलाश कर रहे हैं यहां आप हमारी साइट से पिछले प्रश्नपत्र और परीक्षा पैटर्न और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी जान सकते हैं। आप परीक्षा में भाग लेने से पहले यहां पिछले आरपीएससी के प्रधानाध्‍यापक प्रश्नपत्र डाउनलोड कर सकते हैं, आवेदक पिछले प्रश्नपत्र, पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न की जांच कर सकते हैं। प्रैक्टिस आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक पिछले पेपरों को अच्छी तरह से अपने परीक्षा में अच्छे अंक स्कोर करने के लिए। उम्मीदवार केवल उनकी तैयारी के संदर्भ में उनका उपयोग कर सकते हैं। सबसे पहले, उम्मीदवारों को परीक्षा के पैटर्न को पता होना चाहिए ताकि वे उम्मीदवारों की खातिर पढ़ने के लिए क्या जरूरी हो और क्या न करें, यहां हम परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम दोनों को प्रदान कर रहे हैं। नियमित पाठ्यक्रम और नौकरी अद्यतनों के लिए सभी भारतीय नौकरियों का दौरा रखें।

आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक परीक्षा पैटर्न 2017:
पेपर - I के का पैटर्न:
अनुक्रमांक
विषय
प्रश्नों की संख्या
कुल अंक
1
राजस्थान, भारतीय और विश्व इतिहास, राजस्थान संस्कृति और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन पर विशेष जोर
40
80
2
भारतीय राजनीति, राजस्थान पर विशेष जोर देने वाले भारतीय अर्थशास्त्र
40
80
3
शिक्षण में कंप्यूटर और सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग
15
30
4
राजस्थान, भारत, विश्व भूगोल
30
60
5
सामान्य विज्ञान
25
50
कुल योग
150
300

पेपर-II के लिए आरपीएससी प्रधानाध्‍यापक परीक्षा पैटर्न
क्र.सं.
विषय
प्रश्नों की संख्या
कुल अंक
1.
मानसिक क्षमता परीक्षण
24
48
2.
सांख्यिकी (प्रवेशिका स्तर), गणित (प्रवेशिका स्तर)
24
48
3.
शैक्षिक मनोविज्ञान, अध्यापन, स्कूल स्तर पर शैक्षिक प्रबंधन, राजस्थान में शैक्षिक परिदृश्य
30
60
4.
बच्चों के नि: शुल्क और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम, 200 9 के अधिकार, राजस्थान सर्विस नियम, सीसीए नियम, जीएफ एण्‍ड एआर
24
48
5.
वर्तमान मामलों
24
48
6.
भाषा की क्षमता का परीक्षण: हिंदी, अंग्रेजी
24
48
कुल योग
150
300


Monday, 26 March 2018

General Hindi : Paryayvachi & Vilom shabd 20 Solved Questions


पर्यायवाची शब्‍दों के प्रश्‍न
1.    कौन–सा शब्‍द घोड़ा का पर्यायवाची नहीं है?
       () बाजि
       (ब) तुरंग
       (स) शार्दूल
       (द) हय                                                                                            (स)
विशेष - शार्दूल शब्‍द सिंह का पर्यायवाची शब्‍द है। घोड़े के पर्यायवाची शब्‍द - घोटक, रविपुत्र, हय, तुरंग, सैंधव, दधिका, सर्ता, अश्व, बाजी

2.    मीनाक्षी का पर्यायवाची शब्‍द है–
       () सुन्दरी
       (ब) दुर्गा
       (स) मछली
       (द) लक्ष्‍मी                                                                                        (अ)
विशेष - मीनाक्षी का अर्थ मीन की तरह आंख वाली होता है।

3.    कौन–सा शब्‍द नाग का पर्यायवाची नहीं है?
       () सर्प
       (ब) अहि
       (स) विषधर
       (द) तुरंग                                                                                          (द)
विशेष - तुरंग, घोड़े का पर्यायवाची शब्‍द है। नाग के अन्‍य पर्यायवाची शब्‍द विषधर, भुजंग, अहि, उरग, काकोदर, फणीश, सारंग, व्याल, सर्प, साँप आदि

4.    कौन–सा शब्‍द दैत्‍य का पर्यायवाची नहीं है?
       () राक्षस
       (ब) दानव
       (स) भूसुर
       (द) निशाचर                                                                                     (स)
विशेष - भुसूर, ब्राह्मण का पर्यायवाची होता है। दैत्‍य के पर्यायवाची शब्‍द - दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, यातुधान, देवारि, निशिचर, असुर

5.    रुख का पर्यायवाची शब्‍द है–
       () विटप
       (ब) प्रसून
       (स) तड़का
       (द) हेरम्‍ब                                                                                         (अ)
विशेष - रुख के अन्‍य पर्यायवाची शब्‍द - पेड़ , पादप , विटप , तरु , गाछ तथा वृक्ष

6.    कौन–सा शब्‍द ब्रह्मा का पर्यायवाची नहीं है?
       () कमलासन
       (ब) चतुरानन
       (स) चतुर्मुख
       (द) चतुर्भुज                                                                                      (द)
विशेष - चतुर्भुज विष्‍णु का पर्यायवाची शब्‍द है। ब्रह्मा के पर्यायवाची शब्‍द - अज, विधि, विधाता, प्रजापति, निर्माता, धाता, चतुरानन, प्रजाधिप

7.    कौन–सा शब्‍द भ्रमर का पर्यायवाची नहीं है?
       () शलभ
       (ब) चंचरीक
       (स) शिलीमुख
       (द) मिलिन्‍द                                                                                      (स)
विशेष -शिलीमुखबाण, तीर, शर, सायक
       भ्रमर भौंरा भ्रमण ,भँवरा,भृंग ,मिलिंद ,सारंग ,मधुप

8.    कौन–सा शब्‍द इन्‍द्र का पर्यायवाची नहीं है?
       () पुरंदर
       (ब) शक्र
       (स) मधवा
       (द) गणाधिप                                                                                     (द)
विशेष - गणाधिप, गणेश का पर्यायवाची शब्‍द है। इन्‍द्र के अन्‍य पर्यायवाची शब्‍द - देवराज, सुरेन्द्र, सुरपति, अमरेश, देवेन्द्र, वासव, सुरराज, सुरेश, पुरंदर, महेंद्र

9.    हिरण्यगर्भ का पर्यायवाची शब्‍द है–
       () विष्‍णु
       (ब) ब्रह्मा
       (स) महेश
       (द) गणेश                                                                                         (ब)

10.   कौन–सा शब्‍द दास का पर्यायवाची नहीं है?
       () अनुचर
       (ब) शक्र
       (स) भृत्‍य
       (द) सेवक                                                                                         (ब)
विशेष - शक्र, इन्‍द्र का पर्यायवाची शब्‍द है। दास के अन्‍य पर्यायवाची शब्‍द - सेवक, नौकर, चाकर, परिचारक, अनुचर

विलोम शब्‍दों के प्रश्‍न
11.   जंगम का विलोम शब्‍द है –
       () अगम
       (ब) दुर्गम
       (स) स्‍थावर
       (द) चंचल                                                                                        (स)
विशेष - जंगम जिसे कहीं ले जाया जा सके या जो चल सके।
       स्‍थावर अचल या स्थिर

12.   सृष्टि का विलोम शब्‍द है –
       () विसृष्टि
       (ब) प्रलय
       (स) व्‍यष्टि
       (द) समष्टि                                                                                        (ब)
विशेष - सृष्टि निर्माण, रचना
       प्रलय नाश या विस्तृत भूभाग में होनेवाली भयंकर बर्बादी

13.   ईप्सित का विलोम शब्द है –
       () अभिप्सित
       (ब) अनीप्सित
       (स) परोप्सित
       (द) सुनीप्सित                                                                                    (ब)
विशेष - ईप्सित चाहा हुआ, इच्छित
       अनीप्सित अनिच्छित, अवांछित

14.   साहचर्य का विलोम शब्‍द है –
       () वैमनस्‍य
       (ब) असहयोग
       (स) विनयोग
       (द) अलगाव                                                                                      (द)
विशेष - साहचर्य संग, साथ में
       अलगाव दूरी, अलग रखने या करने का भाव

15.   विराट् का विलोम शब्‍द है –
       () वृहद्
       (ब) वृहत्‍
       (स) छोटापन
       (द) क्षुद्र                                                                                           (द)
विशेष - विराट अत्यंत विशाल
       क्षुद्र नन्हा, अत्‍यंत छोटा           

16.   स्‍पृश्‍य का विलोम शब्‍द है –
       () स्‍पृश्‍य
       (ब) अस्‍पृश्‍य
       (स) अश्‍पृष्‍य
       (द) अस्‍पृश्‍य                                                                                      (द)
विशेष - स्‍पृश्‍य स्पर्श करने के लायक; छूने योग्य, जिसे छूने में कोई दोष न हो।
       अस्‍पृश्‍य जो छूने या स्पर्श करने के योग्य न हो

17.   अज्ञ का विलोम शब्‍द है –
       () विज्ञ
       (ब) यज्ञ
       (स) सर्वज्ञ
       (द) अनज्ञ                                                                                         (अ)
विशेष - अज्ञ ज्ञानशून्य
       विज्ञ जाननेवाला, समझदार और पढ़ा लिखा

18.   गौरव का विलोम शब्‍द है –
       () लाघव
       (ब) लघुत्‍व
       (स) लघुता
       (द) लघुतम                                                                                       (अ)
विशेष - गौरव गुरुता, बड़प्पन, महत्त्व एवं भारीपन
       लाघव लघु होने का भाव, अल्पता एवं हलकापन

19.   बहिरंग का विलोम शब्‍द है –
       () सर्वाङ्ग
       (ब) अंतरंग
       (स) चतुरंग
       (द) अभ्‍यज्ञ                                                                                       (ब)
विशेष - बहिरंग बाहर का, बाहरी
       अंतरंग शरीर के भीतरी अंग (मन, मस्तिष्क)

20.   ग्रस्‍त का विलोम शब्‍द है –
       () सुप्‍त
       (ब) ग्राह्य
       (स) मुक्‍त
       (द) लुप्‍त                                                                                          (स)
विशेष - ग्रस्‍त पकड़ा हुआ, पीड़ित (जैसेरोग ग्रस्त)
       मुक्‍त   स्वतंत्र, छूटा हुआ (जैसेकर मुक्त, कैद मुक्त)
 paryayvachi & vilom shabd Questions//UP Police//RPSC//UPPCS AO-ARO HD

qqq

CTET 2019 Answer Key Paper - 2 (Class-VI-VIII) Child Development & Pedagogy

CTET 2019 Answer Key Paper - 2 (Class-VI-VIII) Child Development & Pedagogy  ( बाल विकास एवं शिक्षा शास्‍त्र ) 1. विकास में व...