Saturday, 26 August 2017

Methods of Personality Measurement (व्‍यक्तित्‍व मापन की विधियां) in Hindi

व्‍यक्तित्‍व मापन की विधियां
            मनोवैज्ञानिकों ने व्‍यक्तित्‍व-मापन की बहुत सी विधियों या परीक्षणों का प्रतिपादन किया। ऐसी प्रमुख विधियां एवं परीक्षण निम्‍न है
(अ) व्‍यक्तित्‍व आविष्‍कारिका
(ब) प्रक्षेपण विधियां
(स) प्रेक्षण विधियां
(अ) व्‍यक्तित्‍व आविष्‍कारिका (Personality Inventory) व्‍यक्तित्‍व मापने की यह विधि काफी प्रचलि‍त विधि  है। इस विधि में व्‍यक्तित्‍व के खास-खास शीलगुणों से संबंधित कुछ प्रश्‍न बने होते हैं, जिनका उत्‍तर प्राय: हाँ  या नहीं, सही या गलत आदि में दिया जाता है। जैसे -
क्‍या आपको अनिद्रा की शिकायत है ?                            हाँ / नहीं
क्‍या आप बिना किसी कारण के चिन्‍ता करते है ?               हाँ / नहीं
व्‍यक्तित्‍व आविष्‍कारिका के परीक्षण
1. माइनेसोटा मल्‍टीफेजिक पर्सनालिटी टेस्‍ट (एम.एम.पी.आई-2)-इस परीक्षण का निर्माण पहले - पहल हाथावे तथा मैककिनले ने 1940 में किया। इस परीक्षण के मौलिक प्रारुप में 550 एकांश हैं और प्रत्‍येक एकांश के तीन उत्तर हैं 'true', 'false', 'cannot say' । इन तीनों में से किसी एक का जो दिए गए प्रश्‍न के संदर्भ में सही लगता है, चयन किया जाता है। यह आविष्‍कारिका दो प्रकार की होती है - व्‍यक्तिगत एवं सामूहिक।   
2. बेल समायोजन आविष्‍कारिका (Bell Adjustment Inventory) → इस आविष्‍कारिका का निर्माण बेल ने 1934 में किया। इस आविष्‍कारिका का उद्देश्‍य व्‍यक्ति में समायोजन संबंधी कठिनाइयों का पता लगाना होता है। इस आविष्‍कारिका के दो फार्म होते हैं - विद्यार्थी फार्म तथा व्‍यावसायिक फार्म। विद्यार्थी फार्म में कुल 140 एकांश जबकि व्‍यावसायिक फार्म में 140 + 20 = 160 एकांश है।
3. कैटेल 16 व्‍यक्तित्‍व-कारक प्रश्‍नावली (CATTELL 16 Personality-Factor Questionnaire)- इस परीक्षण का निर्माण कैटेल ने कारक विश्‍लेषण के आधार पर किया है। इस प्रश्‍नावली के कई फार्म है जिनके द्वारा 17 वर्ष से अधिक आयुवाले व्‍यक्तियों के 16 शीलगुणों को मापा जाता है। कैटेल ने तीन तरह के शीलगुणों यानि चित्तप्रकृति (temperament), क्षमता (ability) तथा गत्‍यात्‍मक (dynamic) शीलगुण का समावेश किया है।
(ब) प्रक्षेपण विधियां (Projective Methods) →
·         प्रक्षेपण शब्द का अर्थ होता हैआरोपण अर्थात् किसी भी बाहरी वस्तु के माध्यम से आरोपित करते हुए व्यक्ति के अचेतन व अद्र्धचेतन मन के विचारों को जानना। प्रक्षेपण विधि को प्रक्षेपी भी कहा जाता है।
·         प्रक्षेपी विधियों से अचेतन व अद्र्धचेतन मन का ज्ञान किया जाता है। प्रक्षेपण विधि ऐसी विधि है जिसके द्वारा व्यक्ति की छिपी हुई अचेतन मन इच्छाओं और रूचियों आदि का पता लग जाता है।
·         प्रक्षेपण विधि में उत्तेजक परिस्थिति आरोपित कर व्यक्ति अपने विचारों, दृष्टिकोणों, अरमानों तथा इच्छाओं को प्रकट करता है।
·         अपनी बातों, विचारों भावनाओं, अनुभव आदि को स्वयं न बताकर किसी अन्य उद्दीपक के माध्यम से अभिव्यक्त करना।
·         प्रक्षेपण विधियों के माध्यम से अचेतन मन की बातों को ज्ञात किया जाता है।
व्यक्तित्व मापन के लिए मनोवैज्ञानिकों ने कई तरह के प्रक्षेपण परीक्षणों का वर्णन किया है, जो निम्न है
1. शब्द-साहचर्य परीक्षण(Word-association test)
2. रोर्शाख का स्याही धब्बा परीक्षण(Rorsch's Ink Blot Test)
3. विषय-आत्मबोधन परीक्षण (Thematic apperception test or TAT)—
4. वाक्यपूर्ति परीक्षण
5. बाल सम्प्रत्यय परीक्षण (CAT)
6. स्वतंत्र शब्द साहचर्य परीक्षण
(स) प्रेक्षण विधियां (Observational Methods)
            प्रेक्षण विधि वह विधि है जहाँ एक प्रेक्षक व्यक्तियों या छात्रों की क्रियाओं का ध्यानपूर्वक प्रेक्षण एक नियंत्रित परिस्थिति या एक वास्तविक परिस्थिति में करता है तथा फिर उनकी क्रियाओं के लेखा-जोखा का विश्लेषण कर उनके व्यक्तित्व के बारे में एक निश्चित निष्कर्ष पर पहुँचता है। ये विधियाँ निम्न प्रकार की होती है
1. रेटिंग मापनी             2. साक्षात्कार विधि
3. आत्मकथा विधि         4. व्यक्ति इतिहास विधि

5. प्रश्नावली विधि          6. अनुसूची विधि

No comments:

Post a Comment

CTET 2019 Answer Key Paper - 2 (Class-VI-VIII) Child Development & Pedagogy

CTET 2019 Answer Key Paper - 2 (Class-VI-VIII) Child Development & Pedagogy  ( बाल विकास एवं शिक्षा शास्‍त्र ) 1. विकास में व...